अपराधतकनीकीताजा ख़बरेंदेशब्रेकिंग न्यूज़राजनीतीराज्य

पाकिस्तान से हथियार लाने वाला ड्रोन मिला, आतंकियों के निशाने पर माधोपुर छावनी

अमृतसर. पिछले दिनों सीमावर्ती खेमकरण क्षेत्र में पाकिस्तान की तरफ से जिस ड्राेन से हथियारों की बड़ी खेप को भेजा गया था, उसे पंजाब पुलिस ने बरामद कर लिया है। पंजाब पुलिस की खुफिया शाखा स्टेट स्पेशल ऑपरेशन सेल (एसएसओसी) ने यह ड्रोन भारत-पाक सीमा पर स्थित जिला तरनतारन के झब्बाल क्षेत्र से बरामद किया है। ड्रोन की बरामदगी बीते दिनों गिरफ्तार खलिस्‍तानी आतंकियों से पूछताछ में खुलासे के बाद हुई है। इसी बीच सनसनीखेज खुलासा हुआ है कि आतंकियों के निशाने पर अब माधोपुर सैन्‍य छावनी है। पूरे छावनी क्षेत्र में हाई अलर्ट जारी कर दिया गया है और ड्रोन पर भी खास नजर रखी जा रही है।

रिमांड के दौरान पूछताछ में आतंकी आकाशदीप सिंह और उसके साथियों ने ड्रोन और इससे भेजे गए हथियारों के बारे में राज खोला। हथियारों के साथ पकड़े गए खालिस्तान जिंदाबाद फोर्स (केजेडएफ) के आतंकियों ने गिरफ्तारी से पहले इस ड्रोन को जलाकर नष्ट करने की कोशिश भी की थी, लेकिन जब यह पूरी तरह जल नहीं पाया तो उसे झब्बाल के एक खाली गोदाम में छिपाकर रख दिया गया। इसके बाद एसएसओसी की टीम ने यह अधजला ड्रोन एक गोदाम से बरामद किया।

10 किलो का ड्रोन आसानी से उठा सकता है साढ़े चार किलो की एके-47

पकड़े गए ड्रोन का वजन करीब 10 किलो है। यह एक बार में साढ़े चार किलो की एक एक-47 राइफल को उड़ाकर ला सकता है। अब इस बात को लेकर पूछताछ की जा रही है कि यह ड्रोन कितनी बार कंटीली तार पार करके भारत आया। केवल एक ही ड्रोन इस काम में लगाया गया था या ड्रोन की संख्या इससे ज्यादा हो सकती है। एसएसओसी के एक अधिकारी के अनुसार ड्रोन को जांच के लिए फॉरेंसिक टीम के हवाले कर दिया गया है। जांच में यह पता करने की कोशिश की जा रही है कि आईएसआई की ओर से भेजे गए इस ड्रोन में किस तरह के उपकरण फिट किए गए थे।

यह भी आशंका
इस बात की आशंका भी जताई जा रही है कि पाकिस्तान की खुफिया एजेंसी आईएसआई की ओर से तीन-चार तरह के ड्रोन में जाली करंसी और हथियार भेजे गए होंगे। इसे लेकर ज्वाइंट इंटेरोगेशन सेंटर (जेआईसी) में आतंकी आकाशदीप सिंह उर्फ आकाश, बलवंत सिंह उर्फ बाबा उर्फ निहंग, हरभजन सिंह, बलबीर सिंह और मान सिंह से पूछताछ जारी है।

अभी तक की खास बात

अभी तक आकाशदीप ने पूछताछ में माना कि पाकिस्तान में बैठे खालिस्तानी समर्थक रंजीत सिंह नीटा से वह कई बार फोन पर बात कर चुका है। उसे नीटा का नंबर जर्मनी में रह रहे आतंकी गुरमीत सिंह उर्फ बग्गा ने दिया था। बग्गा के इशारे पर नीटा आईएसआई को हथियार सीमा पार पहुंचाने के लिए सुरक्षित जगह बता रहा था। वहीं इन हथियारों की खेप के लिए लोकेशन और टाइम आकाशदीप खुद सेट करता था।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button
Contact Us
close slider
Close